Search your topics.........

Sunday, 11 April 2021

बार कोड एवं बार कोड रीडर |Bar Code and Bar Code Reader

बार कोड एवं बार कोड रीडर (Bar Code and Bar Code Reader)


बार कोड एवं बार कोड रीडर |Bar Code and Bar Code Reader


अक्सर जब आप सामान की खरीददारी करते होंगे तो देखा होगा कि उत्पाद (product) के पै केट पर कीमत ही गायब है। तथा मूल्य की जगह पर एक काली और उजली पट्टी है। यही बार कोड होता है। आइए इस सेक्शन में देखते हैं कि बार कोड तथा बार कोड रीडर क्या होता है? (What are bar code and bar code reader?)

बार कोड तथा बार कोड रीडर क्या होता है?

बार कोड उत्पाद (product) संबंधित टेकस्ट सूचना को कोड में बदलने (Encode) की एक सरल तथा सस्तो पद्धति है जिसे सस्ते इलेक्ट्रॉनिक रीडर्स द्वारा आसानी से पढ़ा जाता है। बार कोडिंग का प्रयोग कर डाटा को तेजी तथा शुद्धता के साथ संकलित किया जाता है। बारकोड में पट्टियाँ (Barm। तथा रिक्त स्थान (blanks) समानांतर रूप से सटे (attached) होते हैं। पूर्व परिभाषित स्ट्रोप (stripe)

तथा स्पेस का प्रयोग कैरेक्टर डाटा की एक छोटी सिक्वेन्स को छपे हुए संकेतों (printed symbols) में एनकोड करने के लिए किया जाता है।

बार कोड रीडर बार कोड को डीकोड करने वाली एक इनपुट डिवाइस है। यह कई प्रचलित तथा महत्वपूर्ण इनपुट डिवाइसेज में एक है। इसका प्रयोग उत्पाद के पैकेट के ऊपर छपे हुये वार कोड को पढ़ने के लिए किया जाता है। यह बार कोड को पढ़कर ASCII वेल्यू मान में बदलता है जो सीधे कम्प्यूटर में प्रविष्ट (Enter) हो जाती है। बार कोड रीडर बार कोड को प्रकाश स्रोत (Light source) द्वारा स्कैन करता है तथा परावर्तित प्रकाश की मात्रा को मापता है। इसमें दो तरह की पट्टिकाएँ (bar) बन जाती हैं। काली पट्टिकाएँ कम प्रकाश परावर्तित करती हैं जबकि सफेद पट्टिकाएँ जो रिक्त स्थान (Blank space) होती हैं अपेक्षाकृत अधिक प्रकाश परावर्तित करती हैं।

बार कोड रौडर मुख्यत: दो मॉडल में आते हैं-

॥ फ्लैटबेट (Flatbed) मॉडल, जिसका प्रयोग सुपर मार्केट तथा बड़े डिपार्टमेन्टल स्टोर में उत्पाद से सम्बन्धित जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है।

॥ हैन्ड-हेल्ड (Handheld) मॉडल, जिसका प्रयोग कूरियर सर्विस में उत्पादों को पहचानने में किया जाता है।

बारकोड कैसे काम करता है?

  1. बारकोड को पढ़ने ने समझने के किये मशीन का इस्तेमाल किया जाता है। उस मशीन में एक तरह की लाइट लगी होती है। जो बार मे दी गयी लाइन को सकैन करके उस प्रोडक्ट की सही मात्रा, मूल्य की जानकारी का पता लगाती है। 
  2. बात करे तो ये सिस्टम कैसे काम करता है तो जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि बारकोड में काली, और सफेद कलर की 95 लाइन एक कुछ नंबर जैसे 980 38 इस तरह से मौजूद होती है जो अलग-अलग कॉलम में मौजूद होती है जिनका अपना अलग-अलग मतलब होता है।
  3. अब जब इस बारकोड को स्कैन किया जाता है। तो जब बार मशीन के द्वारा स्कैन करने पर जब कोई लाइट नही जल्दी है तो इसका मतलब होता है मशीन बारकोड के पहले कॉलम को स्कैन कर रही है।
  4. जब बारकोड को स्कैन करने पर मशीन जल जाती है तो इसका मतलब होता है। कि मशीन बारकोड के दूसरे 0 को पढ़ रहा है, और किसी भी प्रोडक्ट में 0 का मतलब होता है वह प्रोडूस्ट किस प्रकार का है, उसकी मात्रा क्या है। और इस तरह से बार कोड काम करता है।
  5. दोस्तों आपकी महत्वपूर्ण जानकारी के लिए बता दे हर बारकोड में लिखे नंबर का अपना अलग मतलब होता है जो कि प्रोडक्ट की सही जानकारी को दर्शाता है।

बार कोड के फ़ायदे-

  1. इससे प्रोडक्ट को खरीदते समय पेमेंट के दौरान समय की बचत होती है.
  2. इस के प्रयोग से पेमेंट के दौरान होने वाली गलती को रोका जा सकता है.
  3. बारकोड किसी प्रोडक्ट के उस मूल्य को बताता जो उसे बनाने वाली कम्पनी ने तय किया है, कोई अन्य व्यक्ति उसे बदल नही सकता तो प्रोडक्ट लेने वाले को सिर्फ उसका वास्तविक मूल्य ही चुकाना होता है.
  4. एक व्यक्ति ही बहुत से सामान का पेमेंट कर सकता है इससे दुकान पर पेमेंट के लिए ज्यादा लोगो को रखने की जरूरत नही होती।
  5. प्रोडक्ट के मूल्य को पढने में ग़लती नही होती है.
  6. प्रोडक्ट की जानकारी बहुत ही जल्दी से स्टोर की जा सकती है.

इन्हें भी पढ़े -

भारत के टॉप न्यूज़ वेबसाइट-टॉप न्यूज़ चैनल

किसी भी फोटो का बैकग्राउंड कैसे रिमूव करें

April 11, 2021moderntechnology.in

SHARE ON