IMEI Number Kya Hai? Mobile Se IMEI Number Kaise चेक करते हैं ?


IMEI नंबर क्या होता है IMEI कैसे चेक करते हैं?

IMEI Number Kya Hai Mobile Se IMEI Number Kaise चेक करते हैं


IMEI Number का पूरा नाम
अंतर्राष्ट्रीय मोबाइल उपकरण पहचान संख्या यानी कि International Mobile Equipment Identity होता है. किसी भी मोबाइल फोन की पहचान के लिए ये एक पहचान संख्या होती है, या यूनिक नंबर होता हैं | GSM, CDMA और IDEN और कुछ सेटेलाइट फोन में भी ये संख्या मिलती है. IMEI की संख्या 15 अंको की होती है. जिसमें मोबाइल फोन उपकरण के मॉडल, मूल और युक्ति (डिवाइस) के सीरियल नंबर के बारे में लिखा होता है।

IMEI नंबर कैसे चेक करें –

किसी भी फ़ोन IMEI नंबर को चेक करने के कई तरीके हैं पर सबसे आसान तरीका यह हैं की आपको अपने डायल पैड में जाकर *#06# डायल करना हैं जिसके बाद आपको स्क्रीन में IMEI नंबर दिखाई देगा आप चाहे तो इसे नोट करके रख सकते हैं और हो सके तो इसे किसी के साथ शेयर न करें | इसके आलावा बंद मोबाइल उपकरण में बैटरी निकालने पर अंदर स्टीकर पर अंकित होता है ।

IMEI नंबर के फायदे –

  • IMEI नंबर से किसी भी फ़ोन को ट्रैक किया जा सकता हैं | 
  •  IMEI नंबर से किसी भी मोबाइल का लोकेशन चेक कर सकते हैं | 
  •  IMEI नंबर से यूजर के सिम का नाम और नंबर पता किया जा सकता हैं | 
  •  इससे गुम हुए या चोरी हुए फ़ोन की तलाश आसानी से किया जा कसता हैं | 
  •  IMEI नंबर का सबसे ज्यादा फायदा अपराधियों को पकड़ने में किया जाता है|

IMEI कैसे बनाया जाता है ?

IMEI (15 अंक: 14 अंक के साथ एक चेक अंक) या IMEISV (16 अंक) में डिवाइस के सीरियल नंबर, मॉडल और निर्माण के बारे में जानकारी दी होती है. 

IMEI/SV की संरचना को 3GPP TS 23.003 के रूप में बनाया जाता है. डिवाइस के मॉडल पर IMEI/SV के प्रारंभिक 8 अंक अंकित रहते हैं, जिसे 'टाइप एलोकेशन कोड' (TAC) के रूप में जाना जाता है.

इसके बाद कंपनी द्वारा निर्धारित नंबर अंकित रहता है. IMEI के अंत में एक (Luhn Check Digit) डाला जाता है, जिसका निर्धारण IMEI आबंटन और अनुमोदन के निर्देशों के अनुसार Luhn Algorithm गणना के अनुसार किया जाता है.

उदाहरण के लिए किसी मोबाईल के लिए निर्धारित IMEI संख्या 490154203237518 है तो इसके पहले 8 अंक अर्थात 49015420 “टाइप एलोकेशन कोड” (TAC) है जबकि उसके बाद के 6 अंक अर्थात 323751 निर्माता कम्पनी द्वारा निर्धारित सीरियल नंबर है जबकि अन्तिम अंक अर्थात 8 “लुह्न चेक अंक” है |

चेक अंकों का निर्धारण तीन चरणों में किया जाता है:

  • दाहिने छोर से हर दूसरे अंक को दुगुना किया जाता है (उदाहरण के लिए, 7 → 14) ।
  • अंक को जोड़ा जाता है (उदाहरण के लिए, 14 → 1 + 4) ।
  • अंकों के कुल योग 10 से विभाजित है या नहीं इसकी जांच की जाती है|

इन्हें भी पढ़े :-