कंप्यूटर की क्षमता पूरी जानकारी |


कंप्यूटर की क्षमता पूरी जानकारी-

आइए, तो हम इस प्रश्न का उत्तर जानें कि कम्प्यूटर की मुख्य क्षमता क्या हैं? (What are the chief strengths of a computer?) कम्प्यूटर का उपयोग व्यापक है। यह आज विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न लोगों की सहायता कर रहा है। इसके अनुप्रयोगों (applications) को देखते हुए इसकी क्षमता इस प्रकार हो सकती हैं।

Strengths Of Computer in Hindi 

Outline--

  1. गति और शुद्दता (Speed and Accuracy) 
  2. विश्वसनीयता (Reliability ) 
  3. कर्मठता (Diligence ) 
  4. स्वचालन ( Automation ) 
  5. सार्वभौमिकता (Versatility ) 
  6. स्टोरेज (storage ) 

कंप्यूटर की क्षमताएं

1. गति और शुद्धता की क्षमता (Speed and Accuracy) 

एक कम्प्यूटर एक समय में एक चरण (step) पर कार्य करता है। यह जोड़, घटाव, अंकों व शब्दों की तुहना, संख्या और अक्षरों को move और copy कर सकते है । यही इन operations में गहन कुछ भी नहीं होता है। इसकी गति को मिलीसैकण्ड, माइक्रो सैकण्ड, नेनो सैकण्ड और पिको सैकण्ड में पाया जाता है। सर्वे के अनुसार कम्प्यूटर की गति हर 6 महीने में दुगुनी होती है। कम्प्यूटर में जोड़ने जैसी आधारभूत क्रिया को execute करने के लिए जो गति आवश्यक होती है। वह इस प्रकार है. कि छोटी मशीनों में कुछ माइक्रो सेकण्ड से लेकर बड़ी मशीनों में 80 नैनो सैकेण्ड या उससे कम।

2. विश्वसनीयता (Reliability )

पहले उल्लेख किया जा चुका है कि कम्प्यूटर में ठीक-ठीक स्टोरेज, स्वचालन, डाटा की यथास्थिति में पुनःप्राप्ति, कर्मठता तथा उच्च गति जैसी क्षमताएँ विद्यमान हैं। यही क्षमता कम्प्यूटरों को आज विश्वसनीय (reliable) बनाते हैं। सभी व्यवसाय तथा विद्वता (intellects) के लोग इस पर पूरी तरह से निर्भर हैं।

3. कर्मठता ( Diligence )

आम मानव किसी कार्य को निरन्तर कुछ ही घण्टों तक करने में शक जाता है। इसके ठीक विपरीत, कम्प्यूटर किसी कार्य को निरन्तर कई घण्टों, दिनों तथा महीनों तक करने की क्षमता रखता है। इसके बावजूद उसके कार्य करने की क्षमता में न तो कोई कमी आती है और न ही कार्य के परिणाम की शुद्धता घटती है। कम्प्यूटर किसी भी दिये गये कार्य को बिना किसी भेद-भाव के करता है, चाहे वह कार्य रुचिकर हो या उबाऊ।

4. स्वचालन ( Automation )

कम्प्यूटर अपना कार्य, प्रोग्राम (निर्देशों के एक समूह) के एक बार लोड हो जाने पर स्वतः करता रहता है। उदाहरणार्थ, किसी डाटा एन्ट्री प्रोग्राम पर कार्य कर रहे प्रिंटर को स्वयं रिपोर्ट तैयार करने की आवश्यकता नहीं, अपितु कम्प्यूटर प्रविष्ट डाटा (entered data) के आधार पर स्वयं ही रिपोर्ट देता रहता है।

5. सार्वभौमिकता ( Universality )

कम्प्यूटर अपनी सार्वभौमिकता (versatility) के गुण के कारण बड़ी तेजी से सारी दुनिया में छाता जा रहा है। कम्प्यूटर गणितीय कार्यों को सम्पन्न करने के साथ-साथ व्यावसायिक कार्यों के लिए भी प्रयोग में लाया जाने लगा है। कम्प्यूटर में प्रिंटर संयोजित करके सभी प्रकार की सूचना कई रूपों में प्रस्तुत की जा सकती हैं कम्प्यूटर को टेलीफोन लाइन से जोड़कर सारी दुनिया से सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जा सकता है। कम्प्यूटर की सहायता से तरह-तरह के खेल खेले जा सकते हैं।

6. स्टोरेज (storage)

एक कम्प्यूटर सिस्टम की डाटा स्टोरेज क्षमता अत्यधिक होती है। कम्प्यूटर लाखों शब्दों को बहुत कम जगह में स्टोर करके रख सकता है। सभी प्रकार के डाटा, चित्र, प्रोग्राम, Text तथा आवाज को कई वर्षों तक स्टोर करके रख सकता है। हम कभी भी यह सूचना कुछ ही सेकेण्ड में प्राप्त कर सकते हैं तथा अपने उपयोग में ला सकते हैं।

और पोस्ट-