Search your topics.........

Monday, 1 March 2021

Sunday, 28 February 2021

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी | What is Information Technology in Hindi | IT kya Hai |

What is Information Technology in Hindi | IT kya Hai


What is Information Technology in Hindi | IT kya Hai | इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी |

Information Technology (IT) एक ऐसा क्षेत्र है, जिसके अंतर्गत computer या अन्य physical devices (hardware, software) का उपयोग electronic data को create, process, secure और exchange करने के लिए किया जाता है. सरल परिभाषा में समझे तो सूचना प्रौद्योगिकी (IT) के अंतर्गत हम computer और telecommunication जैसे system का अध्ययन व उपयोग सूचना के भंडारण, पुनर्प्राप्ति और आदान प्रदान के लिये करते है.

इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के फायदे क्या है

आज के समय Information Technology या IT मुख्य रूप से computer technology से सम्बंधित है. हमारे ज्यादातर कार्य भी कंप्यूटर पर ही निर्भर होते है. तो चलिए देखते है, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी IT महत्वपूर्ण क्यों है, इसके हमारे जीवन मे क्या फायदे है.

सूचना प्रौद्योगिकी से होने वाले कुछ मुख्य फायदे

  • सूचना प्रौद्योगिकी से विभिन्न देशों, भाषाओं और संस्कृतियो के बीच सूचना, ज्ञान, संचार और सम्बन्धों को सांझा करना बहुत आसान हो गया है.

  • इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी IT संचार (communication) के क्षेत्र में क्रांति लेकर आया आज हम massage, voice call, video call की मदद से किसी से साथ भी सवांद कर सकते है.

  • सूचना प्रौद्योगिकी IT ने कई नोकरियों का निर्माण किया है. Computer programmer, hardware developer, software developer, system analyzers और web designer जैसी नई नोकरिया Information technology की देन है.

  • IT के विकास ने Business को भी एक नए आयाम पर पहुँचाया है. आज कंपनियों का अपने ग्राहकों तक पहुँचना आसान हो गया है. इसके साथ ही हम अपने व्यवसाय को online operate कर सकते है, जिससे हमे अपने product को sale करने में आसानी होती है.

  • आईटी कम लागत में Information को store करने के साथ protection भी प्रदान करता है. अगर आपका व्यवसाय है, तो उस दृष्टिकोण से यह काफी महत्वपूर्ण है.


सूचना प्रौद्योगिकी (IT) के क्षेत्र में कुछ प्रमुख Jobs के उदाहरण.

  1. Programmer
  2. Web Developer
  3. Technical Support
  4. Computer System Analyst
  5. IT Security
  6. Network Engineer
  7. Technology Consulting
  8. Technical Sales

Friday, 12 February 2021

MOBILE HANG PROBLEM SOLUTION IN HINDI | मोबाइल स्पीड बढ़ाने के टिप्स

MOBILE HANG PROBLEM SOLUTION IN HINDI | मोबाइल स्पीड बढ़ाने के टिप्स

MOBILE HANG PROBLEM SOLUTION IN HINDI | मोबाइल स्पीड बढ़ाने के टिप्स


Samsung, MI, Vivo, Oppo, Motorola या कोई भी दूसरी कंपनी का Android mobile हो हंग होने की समस्या सभी में होती हैं। बिजली का बिल ऑनलाइन भरना हो, मोबाइल रिचार्ज करना हो या फिर shopping करनी हो हमारा हर काम mobile में install app के जरिये हम कर लेते हैं। जिससे फ़ोन में हमारी ढेरो एप्लीकेशन हो जाती हैं और जब भी कोई app काम करती है तो वो ram का कुछ हिस्सा काम में लेती हैं। जब ज्यादा साइज़ की app एक समय में खुली हो ram की अक्षमता के मुकाबले में तब फ़ोन हैंग होने लगता हैं। फ़ोन के एक जगह रुक जाने के कुछ और वजह भी होती है जो निचे दी गयी हैं।

एक समय में कई एप्लीकेशन खुले रहना से ram full हो जाना। Phone की Internal memory में ही सब apps और game install करना जिससे फ़ोन मेमोरी फुल हो जाती है और फ़ोन हैंग होने की समस्या आती हैं।किसी ऐसे नई app को install करना जिसे फ़ोन support ना करता हो। मोबाइल सॉफ्टवेर अपडेट ना करना फ़ोन में वायरस घुस जाने से भी फ़ोन हंग होने लगता है। ज्यादा heavy games फ़ोन में चलाना। फ़ोन हंग होने से रोकने और मोबाइल स्पीड बढ़ाने के टिप्स--

MOBILE से APPS REMOVE करना

फ़ोन में जितनी अधिक एप्लीकेशन होगी उतना ही मोबाइल के हैंग होने की संभावना ज्यादा होगी । इसलिए जो भी फालतू की app आपके smartphone में है उनको delete कर दे। क्योंकि जब कोई app आपके फ़ोन में डाली है उसको चाहे आप इस्तेमाल ना कर रहे हो फिर भी कई बार वो Background में चलती रहती जिससे Phone slow हो सकता हैं।

अगर आके पास Android mobile है तो उसकी settings से app option में जाकर आप किसी भी app को remove कर सकते हो

\

INTERNAL MEMORY खाली करे

जब Phone की internal memory भर जाती है तो उससे फोन के काम करने पर बहुर असर पड़ता है। क्योंकि जब मेमोरी फुल हो जाती है तब मोबाइल के द्वारा data read और write करने की स्पीड काफी धीमी हो जाती हैं। जिससे mobile hang होने लगता हैं। इसलिए अगर आपके फोन की मेमोरी अगर फुल हो गयी हैं तो उसमे से अतिरिक्त app, video, photos या कोई और media file जिसकी ज्यादा जरुरत नहीं है उसे डिलीट कर दे। एक बेहतर विकल्प ये हैं आप उन सब फाइल को डिलीट करने से पहले उन्हें अपने कंप्यूटर में कॉपी कर ले।

MOBILE SOFTWARE UPDATE

अगर आपका फ़ोन बार बार हैंग हो रहा है तो एक बार चेक कर ले की आपको phone Up to Date है या नहीं। मतलब आपको देखना है आपका mobile में latest software Updated है या नहीं। जब किसी phone में कोई bug यानी कमी आती है तो यो mobile Company उस bug problem को solve करने के लिए software update भेजता हैं जिसे install करने के बाद वो कमी ठीक हो जाती हैं।

PHONE RESTART / REBOOT करे

अपने नोट किया होगा जब आपको काफी समय हो जाए फ़ोन को restart किये और phone धीमा काम करने लगे तो फ़ोन restart करने पर फ़ोन fast हो जाता हैं। ये इसलिए होता हैं जब फ़ोन बंद होता है तो बैकग्राउंड में चल रही सभी एप्लीकेशन बंद हो जाती है और ram clear हो जाती हैं जिससे फिर फ़ोन चालू होने के बाद अच्छे से काम करता हैं। जब कभी आपको हैंगिंग की समस्या आये तो Phone restart कर ले।

APP CACHE CLEAR करे

Twitter, facebook, Whatsapp, Flipkart और दूसरी apps काफी सारा data cache के रूप में सुरक्षित करके रखती हैं। और समय के साथ ये बढ़ता जाता हैं जिससे phone के performance पर फर्क पड़ता है और app crash और hang की प्रॉब्लम आने लगती हैं। इसलिए कुछ समय बाद फ़ोन में cache clear करते रहना चाहिए। ऐसे करने पर कई बार आपको उन apps में फिर से login करना पढ़ सकता हैं और किसी app की पुरानी फाइल भी डिलीट हो सकती हैं।

फ़ोन में ANTIVIRUS डाले

मोबाइल में किसी तरह का virus आ जाने से भी phone hang होने की दिक्कत आती हैं। वायरस से 1. बचने के लिए फ़ोन के एक अच्छा antivirus जरुर install करे। एंटीवायरस कई तरीको से फायदेमंद होता ये है। नुकसानदायक फाइल को फ़ोन से दूर रखता है। fake apps install होने से भी बचाव होता हैं और जिन वेबसाइट में virus होता हैं उन्हें फ़ोन में खोलने से पहले भी warning दे देता हैं।

PHONE RESET करे

आपका मोबाइल काफी ज्यादा हैंग और धीमा काम कर रहा हैं और आप उसे ठीक करने के सब तरीके करके देख चुके हो ऑफ फिर भी वही प्रॉब्लम हैं तो आखिरी solution जो बचता है वो है phone को restore करना। ये विकल्प फ़ोन में factory Reset के नाम से हैं। ये आपके मोबाइल से सब डाटा डिलीट कर देगा। सब Media Files और Setting से लेकर Contacts तक सब फ़ोन से delete हो जायगा। Factory Reset करने के बाद आपका फ़ोन नए के जैसा काम करने लगेगा।

Phone hang होना रोकने के इस तरीके की सबसे बड़ी खामी ये है की इसमें आप अपना सब डाटा खो देंगे। आपको फिर से सभी apps install करनी होगी। इसलिए ये करने से पहले पहले अपने phone का back up बना ले और उसे किसी और डिवाइस में सुरक्षित ले।



Wednesday, 10 February 2021

Fax Machine Kya Hai | Fax Machine in Hindi |

Fax Machine Kya Hai | Fax Machine in Hindi | Fax Machine Kaise Kam Karti hain |

Fax Machine Kya Hai | Fax Machine in Hindi |

Fax Machine Kya Hai-

Fax एक तकनीक है जो कि Internet का उपयोग करके चलती है. इसका उपयोग करने के लिए एक विशेष प्रकार की Machine की आवश्यकता पड़ती है जिसे इसी के नाम पर Fax Machine कहा जाता है. इस तकनीक में एक तरफ रखी Machine में Document डालकर Fax Number डाला जाता है तथा दूसरी Fax Machine जहाँ पर यह Document भेजा गया है तो वहां Document की Photo Copy निकल जाती है. इस तकनीक का उपयोग Telephone की तरह किया जाता है बस जहां हम Mobile द्वारा बात करते हैं वही Fax द्वारा अपनी किसी Photo या Document को Copy के रुप में दूसरे स्थान पर Send कर सकते हैं.



Fax Machine का व्यापार के उद्देश्य से प्रयोग होना वर्ष 1865 से शुरू हुआ था तथा इसके 11 वर्ष बाद Telephone का आविष्कार हो गया था. Fax Machine आज भी प्रयोग में लाई जाती है हालांकि Digitization के चलते Fax की तकनीक अपने पतन की ओर Forward हो रही है तथा इसका कोई" Future नजर नही आता है." अगर Fax तकनीक के आविष्कार की बात की जाए तो Fax का आविष्कार 19वीं सदी में हुआ था वर्ष 1846 में Scotland के आविष्कारक Alexander Ben ने इसका आविष्कार किया था.

Fax Machine कैसे काम करती है-

जब Alexander Graham Bell 1847-1922 ने मार्च 1876 में अपने प्राथमिक Telephone में कहां की श्री वॉटसन यहाँ आओ मैं तुम्हें देखना चाहता हूं तो वह Telecommunications की आधुनिक युग के Founder बन गए थे. लेकिन बस एक पल के लिए मान लीजिए कि यदि वे अपने सहयोगी को इन शब्दों की बजाय एक Picture भेजना चाहते थे तो वे वास्तव में यह क्या करते है.

अधिकतर लोग Fax Machine जो Phone Lines को नीचे भेजते हैं मानते हैं वे Telephone Lines के मुकाबले नए हैं लेकिन पहले Fax Alexander Ban के Chemical Telegraph वास्तव में 1840 के दशक में Phone से पहले आविष्कार किए गए थे. आज Internet ने Fax Machine को अप्रचलित बना दिया है लेकिन कई Business अभी भी भरोसेमंद पुराने Fax Technology पर भरोसा करते है.

एक Fax Machine दोनों Document को भेजने और प्राप्त करने के लिए Design की गई है इसलिए इसमें एक Part भेजना और एक प्राप्त Part है. Sending Part Computer Scanner की तरह थोड़ा सा है जिसमें एक CCD Charged-coupled Device होता है जो एक समय में केवल एक Line के Document को Scan करता है और केवल Black और White Color में होता है. आसान भाषा में यह अलग-अलग Lines को अलग-अलग देखता है Black Areas और White Areas का पता लगाता है और Phone Line के नीचे एक प्रकार की Electric Pulse Black को Represent करती हैं और दूसरी White को Represent करती हैं.

Phone Line दूसरी तरफ Fax Machine के लगभग तुरंत इस Information को प्रसारित करती है. यह Electric Pulse को प्राप्त करता है और Printer को Control करने के लिए उनका उपयोग करता है. यदि प्राप्त करने वाला Fax Black सुनता है तो यह Page पर एक छोटा काला बिंदु खींचता है अगर यह White सुनता है तो यह White Space छोटकर थोड़ा सा स्थानांतरित होता है. एक Page को लिखने या एक Complex Drawing को Transmit करने में लगभग एक मिनट या उससे अधिक समय लगता है.

इन्हें भी पढ़ें -
कंप्यूटर नेटवर्क के लाभ और हानि ?
कम्प्यूटर नेटवर्क क्या हैं ?
ईमेल क्या हैं | ईमेल की विशेषताए और ईमेल की सीमाए |
कंप्यूटर की क्षमता पूरी जानकारी |
समाज पर इन्टरनेट का असर 2020 ?
इन्टरनेट क्या हैं ? इन्टरनेट का विकास |
व्हाट्सएप की सभी सेटिंग की पूरी जानकारियाँ
कंप्यूटर क्या हैं ? कंप्यूटर के 10 प्रमुख उपयोग

Tuesday, 2 February 2021

कंप्यूटर की विशेषताएं | Characteristics Of Computer In Hindi |

Characteristics Of Computer In Hindi  | 07 कंप्यूटर की विशेषताएं

कंप्यूटर की विशेषताएं | Characteristics Of Computer In Hindi |

कंप्यूटर हमारे जीवन का हिस्सा बन गए हैं। हम अपने स्कूल में, घर पर, कार्यालय में, दैनिक आधार पर कंप्यूटर का उपयोग करते हैं। हम कंप्यूटर पर इतने आश्रित क्यों हैं? क्योंकि उन्होंने हमारे जीवन को आसान बना दिया है, वे हमें मनोरंजन प्रदान करते हैं, वे हमारे मूल्यवान डेटा को स्टोर कर सकते हैं, जब तक हम इसे रखना चाहते हैं, तब तक । कंप्यूटर की कुछ मुख्य निम्नलिखित विशेषताएं हैं।

Capabilities Of Computer In Hindi

कंप्यूटर सिस्टम की क्षमता, कंप्यूटर के गुण हैं जो इसपर सकारात्मक प्रकाश डालते हैं और यूजर एक्‍सपिरियंस को और अधिक कुशल बनाते हैं।

कंप्यूटर की विशेषताएं -

  1. Speed 
  2. Accuracy 
  3. Storage 
  4. Diligence
  5.  Automatic 
  6. Communicate 
  7. Multitasking

1) Speed:

जैसा कि आप जानते हैं कि कंप्यूटर बहुत तेजी से काम कर सकता है। मौसम का पूर्वानुमान जो आप हर दिन टीवी पर देखते हैं, यह कंप्यूटर पर विभिन्न स्थानों के तापमान, आर्द्रता, दबाव आदि पर डेटा की भारी मात्रा के संकलन और विश्लेषण का परिणाम है। कंप्यूटर को डेटा की इस बड़ी राशि को संसाधित करने और परिणाम देने में कुछ मिनट लगते हैं। कॅल्क्युलेशन्स के लिए केवल कुछ सेकंड लगते हैं जिन्हें पूरा करने में हमें घंटों लगते हैं। मान लीजिए कि आपको अपने पड़ोस में एक हजार लोगों की औसत मासिक आय की गणना करने के लिए कहा गया है। इसके लिए आपको सभी व्यक्तियों के लिए दिन के आधार पर सभी स्रोतों से आय को जोड़ना होगा और उनमें से प्रत्येक के लिए औसत का पता लगाना होगा। ऐसा करने में आपको कितना समय लगेगा? एक दिन, दो दिन या एक सप्ताह? क्या आप जानते हैं कि आपका छोटा कंप्यूटर इस काम को कुछ सेकंड में पूरा कर सकता है?

2) Accuracy:

कंप्यूटर बहुत फास्‍ट ऑपरेशन्‍स परफॉर्म कर सकते हैं और डेटा को फास्‍ट प्रोसेस कर सकते हैं, लेकिन सटीक परिणामों के साथ और कोई एरर नहीं। परिणाम गलत हो सकते हैं यदि गलत डेटा कंप्यूटर को फिड किया जाता है या एक बग एरर का कारण हो सकता है।

कंप्यूटर एक्यूरेट मशीन हैं जो एरर के बिना बड़ी संख्या में कार्य कर सकती हैं, लेकिन यदि हम कंप्यूटर पर गलत डेटा फिड करते हैं तो यह गलत रिजल्‍ट देता हैं, जिसे GIGO (कचरा इन-कचरा आउट) कहा जाता हैं।

3) Storage:

कंप्यूटर में बड़े पैमाने पर स्‍टोरेज सेक्‍शन है जहां हम भविष्य के उपयोग के लिए बड़ी मात्रा में डेटा स्टोर कर सकते हैं। आवश्यकता होने पर इस तरह के डेटा को आसानी से एक्‍सेस किया जा सकता हैं। हार्ड डिस्क, मैग्‍नेटिक टेप और ऑप्टिकल डिस्क का उपयोग बड़े पैमाने पर स्‍टोरेज डिवाइसेस के रूप में किया जाता है। कंप्यूटर की स्टोरेज क्षमता को Kilobyte (KB), Megabyte (MB), Gigabyte (GB), and Terabyte (TB) में मापा जाता है।

4) Diligence:

थके बिना दोहराए जाने वाले कार्य करने के कंप्यूटर की क्षमता को डिलिजेंस कहा जाता है। कंप्यूटर थकावट, एकाग्रता की कमी, थकान आदि से मुक्त है इसलिए यह बिना किसी एरर के घंटों तक काम कर सकता है। यहां तक कि यदि लाखों कैल्क्युलेशन्स को करना होता हैं, तब भी कंप्यूटर प्रत्येक कैल्क्युलेशन्स को एक्यूरेसी के साथ करेगा।

5) Automatic:

कंप्यूटर एक आटोमेटिक मशीन है जो यूजर्स के हस्तक्षेप के बिना काम करती है। यूजर्स को डेटा देना और परिणाम का उपयोग करना आवश्यक है लेकिन प्रोसेस आटोमेटिक होती है।

6) Communicate:

कंप्यूटर में कम्‍यूनिकेट करने की क्षमता होती है, लेकिन निश्चित रूप से इसके लिए कुछ प्रकार के कनेक्शन की आवश्यकता होती है। (या तो वायर्ड या वायरलेस कनेक्शन)। डेटा भेजने और प्राप्त करने के लिए दो कंप्यूटर कनेक्‍ट किए जा सकते हैं। टेक्स्ट और वीडियो चैट के लिए विशेष सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है। मित्र और परिवार इंटरनेट से कनेक्ट हो सकते हैं और ऑनलाइन फाइलें, फोटो और वीडियो फाइलें शेयर कर सकते हैं।

7) Multitasking:

मल्टीटास्किंग भी एक कंप्यूटर विशेषता है। कंप्यूटर एक समय में कई टास्‍क कर सकता हैं। उदाहरण के लिए आप गाने सुन सकते हैं, फिल्में डाउनलोड कर सकते हैं, और एक ही समय में वर्ड डयॉक्‍यूमेंट तैयार कर सकते हैं।

कम्प्यूटर नेटवर्क क्या हैं ? कंप्यूटर नेटवर्क के लाभ और हानि ?
कंप्यूटर की विशेषताएं |
कंप्यूटर की क्षमता पूरी जानकारी |

Saturday, 16 January 2021

व्हाट्सएप ने रोका प्राइवेसी अपडेट का प्लान | अब क्या करना होगा पूरी जानकारी देखें |

लोगों की नाराजगी देख व्हाट्सएप ने रोका प्राइवेसी अपडेट का प्लान

लोगों की नाराजगी देख व्हाट्सएप ने रोका प्राइवेसी अपडेट का प्लान

व्हाट्सएप यूजर्स के लिए राहत भरी खबर अब किसी का अकाउंट 8 फरवरी को बंद नहीं होगा कंपनी ने विवादित प्राइवेसी अपडेट रोकामेसेजिंग ऐप व्हाट्सएप ने लोगों की चिंताओं को देखते हुए अपना प्राइवेसी अपडेट करने का प्लान रोक दिया है। इससे पहले कहा गया था कि जो लोग उसके अपडेट को स्वीकार नहीं करेंगे, उन्हें 8 फरवरी के बाद सर्विस मिलना बंद हो सकता है। नई पॉलिसी में फेसबुक और इंस्टाग्राम का इंटीग्रेशन ज्यादा था जिसकी वजह से यूजर्स का व्हाट्सऐप डेटा फेसबुक से भी शेयर किया जाता। व्हाट्सऐप पर फेसबुक का पूरा स्वामित्व है। व्हाट्सऐप की इस निजता नीति से परेशान होकर यूजर्स उसकी प्रतिद्वंद्वी ऐप्ल टेलीग्राम और सिग्नल पर शिफ्ट हो रहे थे। नई शर्तों और नीति को स्वीकार करने के लिए तय 8 फरवरी की अंतिम तारीख को व्हॉट्सएप ने फिलहाल टाल दिया है। व्हाट्सऐप ने कहा है कि वह प्राइवेसी और सुरक्षा को लेकर यूजर्स के बीच फैली भ्रामक जानकारियों को दूर करेगा।

एक ब्लॉगपोस्ट में व्हाट्सऐप की ओर से लिखा गया है, हमें बहुत से लोगों से सुनने को मिला है कि हमारे हालिया अपडेट को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है। इस अपडेट के जरिए हम फेसबुक के साथ पहले से ज्यादा डेटा शेयर नहीं करेंगे।

 

व्हाट्सएप के द्वारा दी गयी अपडेट कुछ इस प्रकार हैं

आपकी प्राइवेसी और सुरक्षा हमारे लिए सबसे बढ़कर है

हमने WhatsApp को शुरू से ही इस तरह तैयार किया है ताकि आप अपने दोस्तों के साथ कनेक्टेड रह सकें, किसी प्राकृतिक आपदा के समय अपनों के साथ ज़रूरी अपडेट्स शेयर कर सकें, परिवार से दूर रहकर भी उनके करीब रह सकें या बेहतर ज़िंदगी की तलाश कर सकें. आप WhatsApp पर पर्सनल मैसेजेस, फ़ोटो आदि शेयर करते हैं इसलिए हम आपके लिए ऐप में एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शनफ़ीचर लाए हैं. एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन होने से आपके मैसेज, फ़ोटो, वीडियो, वॉइस मैसेज, डॉक्यूमेंट, स्टेटस और कॉल्स सुरक्षित हो जाते हैं और कोई उनका गलत इस्तेमाल नहीं कर सकता है.


पर्सनल मैसेजिंग

WhatsApp Messenger से की जाने वाली चैट्स एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन से सुरक्षित होती हैं. आपके मैसेजेस और कॉल्स सिर्फ़ आपके और जिनसे आप चैट कर रहे हैं सिर्फ़ उन्हीं के बीच रहते हैं. कोई भी दूसरा व्यक्ति उन्हें पढ़ या सुन नहीं सकता है, WhatsApp भी नहीं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के होने से आपके मैसेजेस पर डिजिटल लॉक लग जाता है और उस लॉक को खोलने की डिजिटल चाबी सिर्फ़ आपके और जिन्हें मैसेज मिला है उन्हीं के पास होती है. यह लॉक और उसकी चाबी यूज़र को दिखती नहीं है, यह सब ऑटोमैटिकली होता है. अपने मैसेजेस को सुरक्षित रखने के लिए आपको कोई स्पेशल सेटिंग ऑन नहीं करनी या अलग से कोई सीक्रेट चैट सेट करने की ज़रूरत नहीं है.

Whatsapp हैक होने से कैसे बचाए?

 बिज़नेस मैसेजिंग

हर WhatsApp मैसेज उसी सिग्नल एन्क्रिप्शन प्रोटोकॉल से सुरक्षित होता है, जिसका इस्तेमाल आपके डिवाइस से मैसेज भेजे जाने से पहले, उसे सुरक्षित करने के लिए किया जाता है. बिज़नेस को भेजे जाने वाले मैसेज सुरक्षित रूप से बिज़नेस द्वारा चुनी गई जगह पर ही डिलीवर होते हैं. 

अगर बिज़नेस WhatsApp Business ऐप का इस्तेमाल करते हैं या कस्टमर्स के मैसेजेस को खुद मैनेज और स्टोर करते हैं, तो WhatsApp उन बिज़नेस के साथ होने वाली चैट को एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड मानता है. बिज़नेस के पास मैसेज पहुँच जाने के बाद बिज़नेस की ही प्राइवेसी पॉलिसी लागू होती है. बिज़नेस चाहे तो कस्टमर्स के मैसेजेस को देखने और उनका जवाब देने के लिए लोगों को काम पर रख सकते है या किसी कंपनी/वेंडर को काम सौंप सकते हैं.

कुछ बिज़नेसेस मैसेजेस को सुरक्षित तरीके से स्टोर करने और उनका जवाब देने के लिए1 WhatsApp की पेरेंट कंपनी, Facebook का इस्तेमाल कर सकते हैं. अगर आप किसी भी बिज़नेस की प्राइवेसी पॉलिसी के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप उनसे कभी भी संपर्क कर सकते हैं.

पेमेंट

कुछ देशों में WhatsApp पर पेमेंट फ़ीचर उपलब्ध है. इस फ़ीचर का इस्तेमाल करके एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में पैसे ट्रांसफ़र किए जा सकते हैं. कार्ड और बैंक नंबर को एन्क्रिप्ट करके बहुत ही सुरक्षित नेटवर्क पर स्टोर किया जाता है. बैंक को ट्रांज़ेक्शन प्रोसेस करने के लिए इन पेमेंट से जुड़ी जानकारी की ज़रूरत होती है इसलिए ये पेमेंट एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड नहीं होती हैं.

आप अपनी प्राइवेसी को कंट्रोल कर सकते हैं

WhatsApp चाहता है कि आपको पता हो कि आपके मैसेज के साथ क्या होता है. अगर आप किसी व्यक्ति या बिज़नेस से मैसेज पाना नहीं चाहते हैं, तो आप उन्हें सीधे चैट में जाकर ब्लॉक कर सकते हैं या अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट से उन्हें मिटा सकते हैं. हम चाहते हैं कि आपको पता हो कि आपके मैसेज कैसे मैनेज किए जा रहे हैं ताकि आप अपने लिए सही फ़ैसला ले सकें.





 

SHARE ON